April 2015

You are browsing the site archives for April 2015.

हरे कृष्णा , आज मै  अपनी कहानी का दूसरा पार्ट लिखने जा रहा हूँ यही से कहानी स्टार्ट होती है | कानपुर  के पास एक गाँव है जिसका नाम कंधौली है | अंग्रेजो के वक्त कुछ ब्राह्मण की टुकड़ी शहर छोड़कर जंगल के बीचो बीच चले  गए  थे  ताकी वो अपनी  संस्कृति  और सभ्यता का …

Continue reading दोषी कौन भाग २

मै ये कहानी लिखने जा रहा हूँ | ये कहानी एक सत्य घटना पर आधारित है | या कहें यह एक परिवार की कहानी जहाँ  हर सदस्य एक दूसरे से बहुत प्यार करता है और कैसे हर एक सदस्य संघर्ष करता हुआ आगे बढता है| ये कहानी जमीन से आसमान तक ले जाने वाली है …

Continue reading दोषी कौन ? भाग १

हमारा देश सोने की चिड़िया कहलाता था | कभी आपने सोंचा है क्यों ? क्योकि भारत में दो लोगो का बहुत सम्मान होता था  १. गौ माता २. ब्राह्मण | ब्राह्मणों का तो हनन पहेले ही हो चुका है क्योकि ब्राह्मण वो होता था जो ब्रह्म के बारे में जानता था और सदाचार का पालन …

Continue reading हमारा देश सोने की चिड़िया कहलाता था कभी आपने सोंचा है क्यों ?

कान्हा मुरली वाला रे, वो है नन्द का लाला रे। जब वो अंगना मेँ खेले रे, मन सभी का हर ले रे, सारे ब्रज का उजाला रे॥ मोर मुकुट पीताम्बर, मेघवर्ण लगे सुन्दर, बाजे पेँजनिया चले जब ठुमककर, काली कमली वाला रे ||1|| गायेँ जब ये चराये, बंशी मधुर बजाये, जादू ऐसा छा जाये, गोपियाँ …

Continue reading Gau Govind Mahtma