अध्याय 1 श्लोक 1.4 , BG 1.4 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 1: कुरुक्षेत्र के युद्धस्थल में सैन्यनिरीक्षण
  श्लोक 1 . 4
अत्र श्रूरा महेष्वासा भीमार्जुनसमा युधि |
युयुधानो विराटश्र्च द्रुपदश्र्च महारथः || ४ ||

 

अत्र – यहाँ; शूराः – वीर; महाइषु -आसा – महान धनुर्धर; भीम-अर्जुन – भीम तथा अर्जुन; समाः – के समान; युधि – युद्ध में;युयुधानः – युयुधान; विराटः – विराट; – भी; द्रुपदः – द्रुपद; – भी; महारथः – महान योद्धा ।

शब्दार्थ 

इस सेना में भीम तथा अर्जुन के समान युद्ध करने वाले अनेक वीर धनुर्धर हैं – यथा महारथी युयुधान, विराट तथा द्रुपद ।

 भावार्थ

युद्धकला में आचार्य द्रोणाचार्य की महान शक्ति के सामने  धृष्टदयुम्न विशेष  बाधक नहीं था परन्तु  ऐसे अनेक योद्धा थे जिनसे भय था । दुर्योधन इन्हें विजय-पथ में अत्यन्त बाधक बताता है क्योंकि इन सब हर एक योद्धा भीम तथा अर्जुन के समान दुर्जेय था । उसे भीम तथा अर्जुन के बल का भलीभांति  ज्ञान था, इसीलिए वह अन्यों को  इन दोनों से तुलना करता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *